गुरूवार, दिसम्बर 1, 2022
Advertisement
होमHealth Newsइन 5 योगासनों को करने से थायरॉयड की समस्या से मिल सकता...

इन 5 योगासनों को करने से थायरॉयड की समस्या से मिल सकता है छुटकारा, करने होंगे ये योग आसन   

आज के समय में ज्यादातर लोग थायरॉयड की समस्या से जूझ रहे है, और इस बीमारी के कारण हमारे बॉडी के कई जरुरी अंग डिस्टर्ब होते है. और इस कारण हमें कब्ज, बाल झड़ने, और शरीर का वजन बढ़ने जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. लेकिन अक्सर हमें ये पता ही नही चलता है की जिन समस्याओं का हम सामना कर रहे है उसका कारण थायरायड है. इसलिए अगर आपको भी ऐसे ही कुछ लक्षणों का सामना कर रहे है तो जरुर एक बार थायरायड की जांच करवाए.

आप को बता दे की महिलाओं में ये समस्या पुरुषों के मुकाबले ज्यादा देखने को मिलती है. ये कोई ऐसी बीमारी नहीं है जिसका इलाज संभव नही है. इसके लिए आपको अपने जीवन में कुछ बदलाव करने होंगे जिससे इस बीमारी को सामान्य किया जा सकता है.

हमारे शरीर में थायरायड ग्रंथि का क्या काम होता है-                    

हमारे शरीर में ये ग्रंथि T3 और T4 जैसे हार्मोन बनाने का काम करती है. ये हार्मोन हमारे शरीर में कुछ जरुरी काम करते है जैसे, पाचन तंत्र को मजबूत रखना, हड्डियों और दिमाग के विकास में मदद करना, और बालों की ग्रोथ को बनाये रखना आदि.

अगर शरीर में इन हार्मोन का संतुलन ख़राब हो जाता है, इनको दो तरीके से पहचाना जा सकता है.

  1. हाइपोथायराइडिज्म- ये होने पर हमारे शरीर में T3 और T4 का उत्पादन ज्यादा मात्रा में होने लगता है.
  2. हाइपोथायरॉइडिज्म- इसमें भी T3 और T4 हार्मोन का उत्पादन बहुत कम होने लगता है, और ऐसा होने पर ये बहुत ही खतरनाक स्थिति है.

योगासन जिनकी मदद से थायरॉयड को कंट्रोल कर सकते है-

भुजंगासन: अगर कोई भी थायरॉयड की समस्या से पीड़ित है तो भुजंगासन अभ्यास को नियमित करने से कंट्रोल किया जा सकता है. भुजंगासन हमारे शरीर में रक्त के संचरण में सुधार करता है जिससे पीठ के उपरी और मध्य भाग में लचीलापन आता है. साथ ही कंधे और पीठ भी मजबूत होती है, और पेट पर जमी चर्बी कम होने लगती है.

हलासन: दूसरा आसन जिससे थायरॉयड ग्रंथि को एक्टिव किया जा सकता है, इस आसन को करने से गर्दन पर दवाब पड़ता है जिससे ये ग्रंथि एक्टिव हो जाती है. इसके साथ ही इसे करने से तनाव और थकान को भी कम किया जा सकता है.

सेतुबंधासन: सेतुबंधासन को करके हम थायरॉयड ग्लैंड को भी एक्टिव कर सकते है. इसके साथ ही इस आसन को करने से मन को शांत करने, चिंता, भय और पाचन तंत्र को भी सही किया जा सकता है.

मत्यासन: थायरॉयड को कंट्रोल करने के लिए इस आसन को भी करना महत्वपूर्ण माना गया है, साथ ही इसको करने से कमर दर्द में भी राहत मिलती है.

सर्वांगासन: यह आसन थायरॉक्सिन और थायरॉयड ग्रंथि को सामान्य करने में सहायक होता है. इस आसन को उल्टा होकर किया जाता है जिससे ब्लड पैरों से सिर तक बहता है, और इस कारण थायरॉयड को नियंत्रित किया जा सकता है.

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments