शुक्रवार, दिसम्बर 2, 2022
Advertisement
होमIndia NewsMatire Ki Rad : जब एक तरबूज के लिए हो गई थी...

Matire Ki Rad : जब एक तरबूज के लिए हो गई थी खूनी जंग, हजारों सैनिकों की हो गई थी मौत

जयपुर। राजस्थान का इतिहास (History of Rajasthan) जग जाहिर है। इस धरा पर अनेक वीर पैदा हुए जो अपनी वीरता से अनेकों लड़ाइयां लड़ कर इतिहास में अमर हो गए। आज हम आपको एक ऐसी लड़ाई के बारे में बताने जा रहे है जो कि एक फल के लिए लड़ी गई और इस लड़ाई में हजारों सिपाही शहीद हो गए। जी हां, आप शायद इस बात पर यकीन ना करें, लेकिन ये सच है। यह लड़ाई दुनिया की एक मात्र ऐसी लड़ाई है जो कि केवल एक तरबूज के लिए लड़ी गई और इतिहास में इसे मतीरे की राड के नाम से जाना जाता है।

यह कहानी है 1644 ईस्वी की जब बीकानेर रियासत का सीलवा गांव और नागौर रियासत का जाखणियां गांव जो की एक दूसरे के समानांतर स्थित थे। यह दोनों गांव नागौर रियासत और बीकानेर रियासत की अंतिम सीमा थी। बीकानेर और नागौर रियासतों के बीच एक अजब लडाई लड़ी गयी थी। एक मतीरे की बेल बीकानेर रियासत की सीमा में उगी किन्तु नागौर की सीमा में फैल गई। उस पर एक मतीरा यानि तरबूज लग गया। एक पक्ष का दावा था कि बेल हमारे इधर लगी है, दूसरे का दावा था कि फल तो हमारी जमीन पर पड़ा है। उस मतीरे के हक को लेकर युद्ध हुआ जिसे इतिहास में मतीरे की राड़ के नाम से जाना जाता है।

नागौर और बीकानेर की रियासतों के मध्य मतीरे को लेकर झगड़ा हो गया और यह झगड़ा युद्ध में तब्दील हो गया। इस युद्ध में नागौर की सेना का नेतृत्व सिंघवी सुखमल ने किया जबकि बीकानेर की सेना का नेतृत्व रामचंद्र मुखिया ने किया था। उस समय बीकानेर के शासक राजा करणसिंह थे और वह मुगलों के लिए दक्षिण अभियान पर गये हुए थे। जबकि नागौर के शासक राव अमरसिंह थे। राव अमरसिंह भी मुगल साम्राज्य की सेवा में थे। यह दोनों रियासतें मुगल साम्राज्य की अधीनता स्वीकार कर चुकी थी। इसलिए राव अमरसिंह ने आगरा लौटते ही बादशाह को इसकी शिकायत की तो राजा करणसिंह ने सलावतखां बख्शी को पत्र लिखा और बीकानेर की पैरवी करने को कहा था। लेकिन मामला मुगल दरबार में चलता उससे पहले युद्ध हो गया। युद्ध में नागौर की हार हुई, लेकिन बताया जाता है कि दोनों तरफ से हजारों सैनिकों की मौत हुई थी।

यह भी पढ़े :- Bihar National Highway : बिहार का गड्ढों वाला नेशनल हाइवे, एक किमी तक सड़क पर गड्ढे ही गड्ढे

यह भी पढ़े :- किन्नर गुरु को मानते हैं अपना पति क्यों? एक दिन बाद हो जाती है विधवा, खड़ा करके दफनाते हैं शव!

यह भी पढ़े :- राजस्थान का ऐसा किला जहां हैं भूत-प्रेतों का साया!, सूर्यास्त के बाद अंदर जाना है मना

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments