शुक्रवार, दिसम्बर 9, 2022
Advertisement
होमUP Electionउत्तर प्रदेश चुनाव: अल्पसंख्यकों को जोड़ने की जुगाड़ में बीजेपी, प्रबुद्ध अल्पसंख्यक...

उत्तर प्रदेश चुनाव: अल्पसंख्यकों को जोड़ने की जुगाड़ में बीजेपी, प्रबुद्ध अल्पसंख्यक सम्मेलन करेगी प्रत्येक जिले में

अल्पसंख्यकों को जोड़ने की जुगाड़ में बीजेपी, प्रबुद्ध अल्पसंख्यक सम्मेलन करेगी प्रत्येक जिले में


खास बातें

  • उत्तर प्रदेश में चुनाव के पहले अल्पसंख्यकों से जुडेगी बीजेपी
  • अल्पसंख्यकों पर अपनी पकड़ को मजबूत करेगी.
  • अल्पसंख्यकों की बनाई जाएगी टीम
  • मुस्लिम भी होगें शामिल

उत्तर प्रदेश चुनाव

अल्पसंख्यकों को जोड़ने की जुगाड़ में बीजेपी, प्रबुद्ध अल्पसंख्यक सम्मेलन करेगी प्रत्येक जिले में यूपी में आने वाले विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी अल्पसंख्यकों को एक साथ जोड़ने की कोशिश में लगी हुई है ।

बहुजन समाज पार्टी प्रत्येक जिले में प्रबुद्ध अल्पसंख्यक सम्मेलन करने वाली है. यूपी में आने वाले विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी अल्पसंख्यकों को जोड़ने की कोशिश में जुटी हुई है. बीजेपी प्रत्येक जिले में प्रबुद्ध अल्पसंख्यक सम्मेलन करने वाली है ।

अल्पसंख्यक मोर्चे को जोड़कर इस बार एक बड़ी टीम तैयार की जाएगी. इसमें लगभग 44 अल्पसंख्यकों को घर-घर भेज, उनको सरकार की नयी नीतियां बताई जाएगी. बीजेपी के संगठन महामंत्री सुनील बंसल ने मंगलवार को लखनऊ में बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चे के हाल ही में नियुक्त पदाधिकारियों के साथ बैठक की. उन्होंने ने कहा कि प्रबुद्ध अल्पसंख्यकों को पार्टी की विचारधारा को समझाया जा सके और साथ ही जोड़ा भी जा सके ।

इसके लिए बूथ स्तर पर भी अल्पसंख्यक मोर्चे के कार्यकर्ता जाएंगे एवं प्रचार-प्रसार करेंगे. महामंत्री सुनील बंसल ने कहा कि मुसलमानों की शिक्षा एवं रोजगार पर भी भाजपा की प्राथमिकता है ।

जल्दी ही पूरे राज्य में अल्पसंख्यकों को भी बहुल इलाकों में रोजगार मिलेगा व अन्य सरकारी योजनाओं का भी मुसलमानों का सीधा लाभ पहुंचाने का कार्य किया जाएगा इधर, मंगलवार को उत्तर प्रदेश के बहुजन समाज पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के राज्य अध्यक्ष कुंवर बासित अली ने उनकी 26 सदस्य की प्रदेश टीम की घोषणा की, जिसमें से 21 मुस्लिम और बाकी जैन, सिख एवं अन्य अल्पसंख्यक समाज से हैं ।

कुंवर बासित अली ने कहा कि पिछली कार्यकारिणी में मुस्लिम जाति से सिर्फ चार पदाधिकारी थे, लेकिन इस बार यह संख्या बढ़ाकर ग्यारह हो गई है. इस बार पढ़े-लिखे और युवा पदाधिकारी बनाए हैं ।

टीम का हर सदस्य ग्रेजुएशन किया हुआ है. खास बात यह भी है कि मुस्लिम समुदाय में जो भी जातियां पिछड़ी हैं, उनकी जातियों से जुड़े कार्यकर्ताओं को राज्य पदाधिकारी बनाकर इन सभी जातियों को सम्मान भी दिया गया है, क्योंकि राजनीति के अन्दर इन समाजों का प्रतिनिधित्व बहुत ही न के बराबर है

ऐसे में बहुजन समाज पार्टी उन्हें संगठन में जोड़ कर पिछड़े समाज पर अपनी पकड़ को मजबूत करेगी ।


RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments