शुक्रवार, दिसम्बर 9, 2022
Advertisement
होमIndia Newsउदयपुर हत्याकांड का 26/11 कनेक्शन : मर्डर के लिए खास नंबर वाली...

उदयपुर हत्याकांड का 26/11 कनेक्शन : मर्डर के लिए खास नंबर वाली बाइक का इस्तेमाल, 5000 रुपये में लिया था बाइक नंबर

उदयपुर। उदयपुर हत्याकांड सोची समझी साजिश थी। पुलिस ने कन्हैयालाल का मर्डर पर सनसनीखेज खुलासा किया है। रियाज ने 2013 में बाइक किश्तों में खरीदी थी। रियाज ने बाइक भले ही किश्तों में ली हो, लेकिन अपनी बाइक के लिए ‘2611 नंबर की प्लेट प्राप्त’ करने के लिए अतिरिक्त पैसे दिए थे। यह नंबर लेने के लिए RTO को पांच हजार रुपए एक्स्ट्रा फीस दी थी। इसके भी डॉक्यूमेंट सामने आए हैं। इसमें बाइक रियाज के नाम से रजिस्टर्ड है। दरअसल, इस मामले में आतंकी एंगल आने के संकेत के बाद से पुलिस इस नंबर को उस तारीख से जोड़ रही है, जब मुंबई में 2611 को सबसे भयानक आतंकवादी हमला हुआ था। अपराधियों में से एक रियाज अख्तरी ने अपनी मोटरसाइकिल के लिए 2611 नंबर की प्लेट प्राप्त करने के लिए अतिरिक्त पैसे दिए थे। यह वही वाहन है, जिसमें दो हत्यारे गोस मोहम्मद और रियाज अख्तरी दर्जी कन्हैया लाल का गला रेत कर फरार हो गए थे। रजिस्ट्रेशन नंबर RJ 27 AS 2611 वाली यह बाइक उदयपुर के धन मंडी पुलिस स्टेशन में पड़ी है।

यह भी पढ़ें :- कन्हैयालाल हत्याकांड में बड़ा खुलासा : ऑर्डर थे-गोली मत मारना, ISIS की तरह गला रेतकर VIDEO बनाना

पुलिस सूत्रों का कहना है कि रियाज ने जानबूझकर ‘2611’ नंबर मांगा और इस नंबर प्लेट के लिए ₹5,000 अतिरिक्त दिए। पुलिस इस बाइक नंबर के जरिए वारदात के असली कारणों की तह तक पहुंचना चाहती है। पुलिस सूत्रों ने एक टीवी चैनल को बताया कि रियाज के पासपोर्ट से पता चलता है कि वह 2014 में नेपाल गया था।

बता दें कि उदयपुर हत्याकांड का एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हुआ था। वीडियो के अनुसार दोनों आरोपी धानमंडी थाना क्षेत्र स्थित टेलर की दुकान पर दोपहर के समय पहुंचे। इनमें से एक ने अपना नाम रियाज बताया है। उसने अपने आप को एक ग्राहक बताया और टेलर कन्हैयालाल ने उसका नाप लेना शुरू कर दिया। इस दौरान उसने टेलर पर हमला कर दिया, वहीं दूसरे आरोपी ने मोबाइल फोन से घटना का वीडियो बनाया। वीडियो के अनुसार, जब टेलर नाप लेकर लिख रहा था उस दौरान रियाज ने अचानक धारदार हथियार से उस पर हमला कर दिया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद दोनों आरोपी मौके से फरार हो गए तथा बाद में एक और वीडियो में उन्होंने अपराध करने की पुष्टि की।

यह भी पढ़ें :- Udaipur Murder Case : ‘समझौता’ हो गया कहकर नहीं दी थी पुलिस ने सुरक्षा, 15 जून को हुई सबसे बड़ी गलती

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments