शुक्रवार, दिसम्बर 9, 2022
Advertisement
होमIndia Newsउदयपुर हत्याकांड के आरोपी का पॉलिटिकल कनेक्शन: BJP नेता के साथ रियाज...

उदयपुर हत्याकांड के आरोपी का पॉलिटिकल कनेक्शन: BJP नेता के साथ रियाज का फोटो

राजस्थान के उदयपुर (Udaipur, Rajasthan) में कन्हैया लाल साहू (Kanhaiya Lal Sahu) की निर्मम हत्या के आरोपित रियाज अख्तारी (Riyaz Akhtari) और गौस मोहम्मद (Ghaus Mohammad) से पूछताछ में नई-नई जानकारियां सामने आ रही है। वहीं अब उदयपुर हत्याकांड के मुख्य आरोपी मोहम्मद रियाज अत्तारी का पॉलिटिकल कनेक्शन सामने आया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, रियाज ने राष्ट्रवादी राजनीतिक संगठन भाजपा (BJP) में शामिल होने की कोशिश की थी। रियाज उदयपुर में भाजपा के विभिन्न कार्यक्रमों में भी शामिल होता था। वह पार्टी के काम करने की अपनी इच्छा के बारे में अक्सर कहता था। एक तस्वीर में वह भाजपा नेता गुलाबचंद कटारिया के साथ नजर आ रहा है। यह तस्वीर 2018 की है। इसके अलावा BJP अल्पसंख्यक मोर्चा से जुड़े एक कार्यकर्ता का एक पुराना पोस्ट भी सामने आया है। इसमें उसने रियाज को भाजपा कार्यकर्ता बताया है। उधर, इस पर सियासत भी शुरू हो गई है। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने सवाल उठाया है।

भाजपा नेता ने माला पहनाकर किया था रियाज का स्वागत

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा से जुड़े इरशाद चैनवाला और कार्यकर्ता मोहम्मद ताहिर के 2019 में किए गए एक सोशल मीडिया पोस्ट में रियाज दिख रहा है। एक फोटो में इरशाद चैनवाला रियाज को माला पहना रहे हैं। इस बारे में पूछे जाने पर इरशाद चैनवाला ने कहा कि रियाज मक्का-मदीना से उमरा करके लौटा था। तब माला पहनाकर उसका स्वागत किया गया था। चैनवाला ने कहा कि रियाज से उसे मोहम्मद ताहिर ने ही मिलवाया था। उसका रियाज से कोई कनेक्शन नहीं है। ताहिर एक कैमरामैन है और बीजेपी सपोर्टर है। उसकी प्रोफाइल फोटो पर बीजेपी की पगड़ी नजर आ रही है। इसी ताहिर ने अपनी पोस्ट में रियाज को बीजेपी कार्यकर्ता भी बताया है।

ताहिर ने पोस्ट में लिखा- हर दिल अजीज हमारे भाई रियाज अत्तारी बीजेपी कार्यकर्ता का उमरा की जियारत से उदयपुर आने पर इस्तकबाल किया गया। अल्लाह, रियाज अत्तारी भाईजान की तमाम दुआओं को कबूल फरमाए, आमीन। यह पोस्ट ताहीर के फेसबुक अकाउंट से 25 नवंबर 2019 को डाली गई है। इसमें ताहिर और चैनवाला और एक अन्य बीजेपी नेता रियाज को माला पहनाते दिख रहे हैं। वहीं, ताहिर से जुड़े कई पोस्ट में रियाज अत्तारी नाम से फेसबुक अकाउंट मेंशन किया गया है। मगर वह अकाउंट अब दिख नहीं रहा है। आशंका है कि हत्यारों ने वारदात के बाद इस अकाउंट को डिलीट कर दिया। इसके अलावा ताहिर की 27 अक्टूबर 2019 की एक पोस्ट भी सामने आई है। इसमें वह लिख रहा है कि अल्लाह ताला हिंदुस्तान में जो मुसलमान के हालत खराब हैं, उनको तेरे महबूब के वासिले से अच्छा कर।

बीजेपी का कोई भी आदमी जुड़ा है तो सजा मिलनी चाहिए

रियाज के साथ फोटो को लेकर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि अल्पसंख्यक मोर्चा के पुराने किसी कार्यक्रम में फोटो खींचा होगा। इरशाद चैनवाला अल्पसंख्यक मोर्चा का पुराना कार्यकर्ता है। बाकी इस पूरे मामले में अगर मैं या बीजेपी का काेई भी आदमी अगर जुड़ा हुआ है या गलत है तो उसे सजा मिलनी चाहिए।

कांग्रेस नेता खेड़ा ने भाजपा पर बोला हमला

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा ने शनिवार दोपहर दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कन्हैयालाल की जघन्य हत्या के मुख्य आरोपी रियाज अत्तारी के साथ भाजपा के दो नेता, इरशाद चैनवाला और मोहम्मद ताहिर के संबंधों की तस्वीरें जगजाहिर हैं। यह बात भी सामने आई है कि वह राजस्थान भाजपा के कद्दावर नेता और राज्य के पूर्व गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया के कार्यक्रमों में अक्सर भाग लेता था। रियाज की भाजपा की राजस्थान अल्पसंख्यक इकाई की बैठकों में शामिल होने की तस्वीरें भी अब दुनियाभर के सामने हैं। खेड़ा ने कहा, ‘फेसबुक पर भाजपा नेता इरशाद चैनवाला के 30 नवंबर 2018 और मोहम्मद ताहिर के 3 फरवरी 2019, 27 अक्टूबर 2019, 28 नवंबर 2019 और 10 अगस्त 2021 को किए गए पोस्टों के माध्यम से स्पष्ट है कि उदयपुर में दुकानदार कन्हैयालाल की हत्या का आरोपी रियाज केवल भाजपा नेताओं का करीबी ही नहीं, वह भाजपा का सक्रिय सदस्य भी था। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस केस को NIA को देने का स्वागत किया, पर नए तथ्य आने पर यह सवाल उठ रहा है कि क्या केंद्र की सरकार ने इन्हीं कारणों से इस घटना को जल्दबाजी में NIA को ट्रांसफर करने का फैसला किया है?

यह भी पढ़ें :- Udaipur Murder Case: हत्याकांड के बाद यूपी में पटाखों का जश्न तो कहीं सिर तन से जुदा के स्टेटस: कई मुस्लिम गिरफ्तार

यह भी पढ़ें :- कन्हैयालाल हत्याकांड में बड़ा खुलासा : ऑर्डर थे-गोली मत मारना, ISIS की तरह गला रेतकर VIDEO बनाना

यह भी पढ़ें :- Udaipur Murder Case : ‘समझौता’ हो गया कहकर नहीं दी थी पुलिस ने सुरक्षा, 15 जून को हुई सबसे बड़ी गलती

यह भी पढ़ें :- उदयपुर हत्याकांड का 26/11 कनेक्शन : मर्डर के लिए खास नंबर वाली बाइक का इस्तेमाल, 5000 रुपये में लिया था बाइक नंबर

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments