शुक्रवार, दिसम्बर 2, 2022
Advertisement
होमIndia Newsहिमाचल की झील में एक साथ सात डूबे: एक दोस्त को बचाने...

हिमाचल की झील में एक साथ सात डूबे: एक दोस्त को बचाने के लिए बाकी भी कूद गए, हादसे से पहले आखिरी बार ली सेल्फी

ऊना। हिमाचल प्रदेश के ऊना की गोबिंद सागर झील में सोमवार को 7 युवक डूब गए। सभी युवक पंजाब के मोहाली जिले के रहने वाले थे। हादसा दोपहर करीब साढ़े 3 बजे हुआ। गरीबनाथ मंदिर के पास झील में पहले एक युवक डूबा और फिर बाकी 6 उसको बचाने के लिए पानी में कूदे, लेकिन वह भी बाहर नहीं आ सके। मौके पर पहुंचे गोताखोरों ने सातों के शव बरामद कर लिए हैं। मंगलवार को पोस्टमॉर्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिए।

पंजाब के बनूड़ के मीरा शाह कॉलोनी में रहने वाले दो सगे भाई भी इसमे शामिल थे। उनके डूबने की सूचना जैसे ही आई तो इलाके का माहौल गमगीन हो गया। घटना के बाद पारिवारिक सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल था। इलाके से 11 लोग बाइक पर हिमाचल प्रदेश में धार्मिक स्थानों की यात्रा करने गए थे। बताया जा रहा है कि सभी माता नैना देवी मंदिर में माथा टेकने के बाद वे बाबा बालक नाथ मंदिर जा रहे थे। जब ये सारे लोग थाना बंगाणा के अधीन गांव कोलका के नजदीक स्थित बाबा गरीब दास मंदिर के पास दोपहर करीब साढ़े तीन बजे पहुंचे तो एक नौजवान ने नहाने की इच्छा जताई। इसके बाद कुछ युवक नहाने लगे। इस दौरान गहराई ज्यादा होने की वजह से एक नौजवान पानी में डूब गया। जब डूबने वाले ने शोर मचाया तो वहां पर खड़े छह नौजवान उसे पानी से निकालने लग पड़े। इस दौरान एक नौजवान का हाथ छूट गया जिसके बाद सारे डूब गए।

सात लोगों की मौत से शोक की लहर

गोबिंद सागर झील में डूबने से सात लोगों की मौत बनूड़ में शोक की लहर है। हर किसी की आंखे नम है। हादसे में एक बुजुर्ग ने अपने बेटे समेत तीन पोतों को खो दिया है। वहीं दो बेटों को खोने वाले पिता पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा है। घटना की सूचना मिलने के बाद से मातम पसर गया है। लोगों का आरोप है कि घटना के बाद स्थानीय प्रशासन ने उनकी सुध तक नहीं ली। सभी मृतकों के परिजन दिहाड़ी करते हैं।

सुबह घर से गए थे, तीन दिन बाद लौटना था

हादसे से पहले सभी दोस्तों ने आखिरी बार मोबाइल से सेल्फी ली थी। लेकिन उन्हें क्या पता था कि ये उनकी आखिरी फोटो होगी। मृतकों के परिजनों ने बताया कि सभी घर से सुबह साढ़े पांच बजे के करीब बाइकों पर निकले थे। श्री नैना देवी, बाबा बालक थान व पीर निगाह घूमकर तीन दिन बाद वापस आने की बात कहकर गए थे। जाने के बाद कोई फोन भी नहीं किया। यह भी नहीं बताया गया कि पहले कहा पर जाना है। उन्हें सिर्फ टीवी पर खबर से पता चला।

इन लोगों की डूबने से हुई मौत

गोबिंद सागर में डूबने वालों की पहचान रमन (19) व लाभ (17) दोनों सगे भाई, शिव कुमार, पवन कुमार (33), अरुण कुमार, लखवीर कुमार (16), विशाल कुमार (16) के रूप में हुई। इसके अलावा उनके साथ गए नौजवान कृष्ण कुमार, सोनू, हेरी व रमन भी उनके साथ बाबा बालक नाथ जा रहे थे।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments