बुधवार, अक्टूबर 5, 2022
Advertisement
होमCrime Newsदोस्त के अंगूठे की खाल लगाकर परीक्षा देने पहुंचा कैंडिडेट: गर्म तवे...

दोस्त के अंगूठे की खाल लगाकर परीक्षा देने पहुंचा कैंडिडेट: गर्म तवे पर स्किन निकाली, आधार ने खोली पोल

वडोदरा। सरकारी नौकरी पाने के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते हैं। गुजरात के वडोदरा में ऐसा ही एक हैरान कर देने वाल मामला सामने आया है। यहां पर रेलवे के परीक्षा में पास होने के लिए एक लड़के ने कुछ ऐसा किया जिसके बाद उसकी कारस्तानी का पर्दाफाश हो गया। ये परीक्षा 22 अगस्त को थी। जानकारी के मुताबिक, एक लड़के ने परीक्षा देने के लिए खुद की जगह अपने दोस्त को भेज दिया। इतना ही नहीं उसने बायोमेट्रिक वेरिफिकेशन के लिए दोस्त को अपने अंगूठे की स्किन काट कर चिपकाने के लिए दे दी, ताकी बायोमेट्रिक में उसका झूठ न पकड़ा जाए। लेकिन परीक्षा केंद्र पर उसकी इस कारस्तानी की पोल खुल गई। इसके बाद दोनों दोस्तों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

आधार सत्यापन के लिए सैनिटाइजर छिड़का तो पोल खुली

अधिकारियों ने बताया कि रेलवे की नौकरी पाने के लिए प्रयास में एक उम्मीदवार ने गर्म तवे का उपयोग करके अपने अंगूठे की त्वचा को हटा दिया और अपने दोस्त के अंगूठे पर इस उम्मीद के साथ चिपका दिया कि इससे वह बायोमेट्रिक सत्यापन प्रक्रिया को क्लीयर कर लेगा और दोस्त के स्थान पर भर्ती परीक्षा में शामिल हो सकेगा। लेकिन, उनके इन अरमानों पर पानी फिर गया। डमी अभ्यर्थी अपने मित्र की जगह 22 अगस्त को गुजरात के वडोदरा शहर में आयोजित रेलवे भर्ती परीक्षा देने पहुंचा था। परीक्षा से पहले आधार के बायोमेट्रिक सत्यापन के दौरान पर्यवेक्षक ने उसके हाथ पर सैनिटाइजर छिड़का, तो हाथ पर चिपका हुआ प्रॉक्सी अंगूठे का थंब इंप्रेशन निकल कर गिर गया।

धोखाधड़ी के मामले में दोनों आरोपी गिरफ्तार

वडोदरा के अतिरिक्त पुलिस आयुक्त एसएम वरोतारिया ने कहा कि पुलिस ने बुधवार को बिहार के मुंगेर जिले के मूल निवासी उम्मीदवार मनीष कुमार और उनके प्रॉक्सी राज्यगुरु गुप्ता को धोखाधड़ी और जालसाजी के आरोप में गिरफ्तार किया। उन्होंने कहा कि दोनों की उम्र 20 के आसपास है और वे 12वीं की परीक्षा पास कर चुके हैं। वडोदरा के लक्ष्मीपुरा पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी के अनुसार, 22 अगस्त को रेलवे ग्रुप डी की रिक्तियों के लिए आयोजित भर्ती परीक्षा के दौरान बायोमेट्रिक डिवाइस के माध्यम से उम्मीदवारों उनके आधार डेटा से मिलान किया गया था। उस समय, डिवाइस पर उम्मीदवार के अंगूठे के निशान पर मनीष कुमार का नाम नहीं आ रहा था और उम्मीदवार अपना बायां हाथ जेब में डालकर छिपाने की कोशिश कर रहा था। इस पर पर्यवेक्षक को संदेह हुआ और जब बाएं अंगूठे पर सैनिटाइजर का छिड़काव किया, तो उस पर लगी असली उम्मीदवार की त्वचा गिर गई।

गर्म तवे पर रखा अंगूठा, फिर काटकर दोस्त को लगाई

इसके बाद पर्यवेक्षक ने पुलिस को बुलाया और भारतीय दंड संहिता की धारा 465 (जालसाजी), 419 (प्रतिरूपण द्वारा धोखाधड़ी) और 120-बी (आपराधिक साजिश) के तहत शिकायत दर्ज कराई। पकड़े गए व्यक्ति ने पुलिस को बताया कि उसका असली नाम राज्यगुरु गुप्ता था और वह अपने दोस्त मनीष कुमार के रूप में परीक्षा देने आया था। पूछताछ में सामने आया कि परीक्षा से एक दिन पहले, कुमार ने अपने बाएं अंगूठे को गर्म तवे पर रखा, जिससे उस पर छाला हो गया। इसके बाद कुमार ने ब्लेड का उपयोग करके त्वचा को हटा दिया और बायोमेट्रिक सत्यापन के लिए गुप्ता के बाएं अंगूठे पर चिपका दिया। अधिकारी ने कहा कि हमने गुप्ता और कुमार दोनों को गिरफ्तार किया है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments