शनिवार, अगस्त 13, 2022
Advertisement
होमRajasthan Newsकन्हैयालाल के परिजनों से मिले सीएम गहलोत, उदयपुर में हिंदू संगठनों के...

कन्हैयालाल के परिजनों से मिले सीएम गहलोत, उदयपुर में हिंदू संगठनों के जुलूस पर पथराव

उदयपुर में दिनदहाड़े हुए तालिबानी मर्डर (कन्हैयालाल हत्याकांड) के बाद पूरे शहर में तीसरे दिन भी कर्फ्यू जारी है। जगह-जगह पुलिस तैनात कर दी गई है। सात थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं पूरे राजस्थान में 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद है। प्रदेशभर में इंटरनेट भी बंद है। इधर, आज प्रदेश के कई जिलों में विभिन्न संगठनों ने बंद बुलाया है।

सर्व समाज की ओर से मौन जुलूस निकाला

कन्हैयालाल की हत्या (Udaipur Tailor Kanhaiya Lal Murder Case) के विरोध में गुरुवार को सर्व समाज की ओर से मौन जुलूस निकाला गया। जुलूस में हजारों लोग शामिल हुए। जुलूस टॉउन हॉल से शुरू हुआ और कलेक्ट्रेट पर पहुंचा। कलेक्ट्रेट से लौटते समय दिल्लीगेट चौराहे पर कुछ युवकों ने पत्थर फेंक दिए। इस दौरान पुलिस ने डंडे बरसाकर खदेड़ा। पथराव किस पर किया यह पुलिस नहीं बता रही है। इधर, विभिन्न संगठनों ने राजस्थान के जयपुर, उदयपुर, पाली, कोटा, जालोर, जैसलमेर, करौली जिलों के कई शहरों में बंद का ऐलान किया।

उदयपुर पहुंचे CM, कन्हैया के घरवालों से मिले

गुरुवार को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा, गृह राज्य मंत्री राजेंद्र यादव, राजस्व मंत्री रामलाल जाट, CS ऊषा शर्मा , DGP मोहन लाल लाठर एवं अन्य अधिकारी उदयपुर पहुंचे। यहां कन्हैयालाल के परिवार वालों से मुलाकात कर संवेदना जताई। CM ने पीड़ित परिवार को 51 लाख रुपए की आर्थिक सहायता का चेक सौंपा। गहलोत ने मीडिया से कहा- NIA एक महीने के अंदर इस केस में जल्दी सजा दिला दे। NIA को समझना चाहिए कि प्रदेश के लोगों की भावना क्या है? कन्हैया को सुरक्षा दी गई या नहीं, क्या कमी रही, सभी चीजें NIA की जांच में सामने आ जाएगी। NIA की जांच पर भरोसा करना चाहिए, जांच निष्पक्ष होगी, हम पूरा सहयोग करेंगे। इस घटना ने देश को हिला दिया।

गुजरात बॉर्डर पर बसों को रोका

वहीं उदयपुर संभाग में तनावपूर्ण माहौल को देखते हुए पड़ोसी राज्य गुजरात ने डूंगरपुर जिले के रतनपुर बॉर्डर से राजस्थान में आने वाली गुजरात रोडवेज की बसों को गुजरात के आखिरी बस स्टैंड शामलाजी में रोक दिया है। इसके बाद सभी यात्रियों को शामलाजी से राजस्थान आने वाली दूसरी बसों से अपने घरों या कामकाज वाली जगह पर जाना पड़ा। गुजरात रोडवेज की सभी बसें अगले आदेशों तक राजस्थान में नहीं आएगी। वहीं गुजरात रोडवेज की जितनी बसें राजस्थान में हैं, उनको भी वापस बुलाने का निर्णय गुजरात रोडवेज प्रबंधन ने लिया है। गुजरात की सरकारी बसों को छोड़कर अन्य निजी बसें यथावत चल रही है।

रथ यात्रा पर आज होगा निर्णय

उदयपुर में 1 जुलाई को भव्य रथयात्रा निकाली जानी है। इसकी तैयारियां प्रशासन ने पहले ही कर ली थी। हत्याकांड के बाद इसके निकाले जाने पर संशय है। बुधवार को नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा था कि रथ यात्रा निकाली जाएगी। हालांकि, प्रशासन ने इसे लेकर निर्णय अब तक नहीं किया है। उदयपुर के कलेक्टर ताराचंद मीणा का कहना है कि इस पर निर्णय गुरुवार को ही होगा। कलेक्टर ने लोगों से मामले में किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान नहीं देने और कोई भी भ्रामक सूचना प्रसारित नहीं करने को कहा है।

पांच पुलिसकर्मी होंगे प्रमोट

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुलिस विभाग की तुरंत कार्रवाई की सराहना करते हुए राजसमंद के भीम से आरोपियों की त्वरित गिरफ्तारी करने वाले 5 पुलिसकर्मियों को प्रमोशन करने का अहम फैसला लिया है। इसमें तेजपाल, नरेन्द्र, शौकत, विकास एवं गौतम को आउट ऑफ टर्म प्रमोशन देने का फैसला किया है।

यह भी पढ़े :- उदयपुर में तालिबानी हत्या: राजस्थान में इंटरनेट बैन, शहर में कर्फ्यू, तनाव में गुजरी पूरी रात

ATS करेगा सहयोग

इससे पहले बुधवार को मुख्यमंत्री ने जयपुर में महत्वपूर्ण बैठक ली। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर बताया है कि उदयपुर में हुई इस बड़ी घटना में मुकदमा UAPA के तहत दर्ज किया गया है। इसलिए अब आगे की जांच NIA करेगा। इसमें राजस्थान ATS अपना पूरा सहयोग करेगा। पुलिस एवं प्रशासन को पूरे राज्य में कानून व्यवस्था सुनिश्चित करने का आदेश दिया गया है। उपद्रव करने वालों पर सख्ती की जाएगी। मुख्यमंत्री ने वर्तमान हालात को देखते हुए पुनः सभी पक्षों से शांति बनाए रखने की अपील भी की है।

NIA पहुंची उदयपुर, केस दर्ज

बुधवार को NIA की विशेष टीम उदयपुर पहुंची। केस के संबंध में जानकारी ली। कन्हैयालाल की हत्या के मामले में केस दर्ज कर लिया गया है। ADG जंगा श्रीनिवास राव, दिनेश एमएन, DIG राजेन्द्र गोयल, SP राजीव पचार आदि ने भी उदयपुर पहुंच कर स्थितियां संभालीं।

बुधवार को किया गया कन्हैयालाल का अंतिम संस्कार

बुधवार सुबह कन्हैयालाल का पोस्टमॉर्टम हुआ था। इसके बाद शव गोवर्धन विलास स्थित घर ले जाया गया। जहां से अशोक नगर शवदाह गृह में उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस बीच कन्हैया के परिवार ने सरकार से आरोपियों को फांसी देने और परिवार को सुरक्षा देने की बात कही है।

यह भी पढ़ें :- Udaipur Murder Case : ‘समझौता’ हो गया कहकर नहीं दी थी पुलिस ने सुरक्षा, 15 जून को हुई सबसे बड़ी गलती

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments