शुक्रवार, दिसम्बर 2, 2022
Advertisement
होमRajasthan Newsजालोर : साधु आत्महत्या प्रकरण मामले ने पकड़ा तूल, अंतिम संस्कार को...

जालोर : साधु आत्महत्या प्रकरण मामले ने पकड़ा तूल, अंतिम संस्कार को लेकर अड़े लोग कर रहे ये मांग

जालोर। राजस्थान के जालोर जिले के तलहटी में श्री बालाजी मंदिर आश्रम के संत रविनाथ के आत्महत्या करने के मामले में तनाव जारी है। 60 वर्षीय संत रविनाथ ने गुरुवार देर रात को आत्महत्या कर ली। संत रविनाथ ने आत्महत्या जैसा कदम जमीन विवाद के चलते उठाया था। शनिवार को साधु रविदास के शव का पोस्टमार्टम हुआ। वहीं अब अंतिम संस्कार को लेकर वार्ता का दौर चल रहा है। साधु के आत्महत्या के इस मामले में भीनमाल विधायक पूराराम चौधरी, उनके चालक धनसिंह व बिजनाथ के विरुद्ध आईपीसी 306 के तहत मामला भी दर्ज करवाया गया है।

पोस्टमार्टम के बाद ग्रामीणों ने रखी मांग

दरअसल पोस्टमार्टम के बाद ग्रामीणों ने तीन मांग रख दी है, जिसे लेकर अंतिम संस्कार को लेकर मामला अटका हुआ है, हालांकि प्रशासन की ओर से समझाइश का दौर जारी है। ग्रामीणों ने मांग की है कि साधु के शव का अंतिम संस्कार आश्रम के आगे की जमीन पर करने दिया जाए। इसके जवाब में प्रशासन का कहना है कि उक्त जमीन भीनमाल विधायक की खातेदारी जमीन है, जिस कारण सहमति नहीं बन पाई है।

ग्रामीणों ने दूसरी मांग रखी है कि आश्रम के पास गैर मुमकिन जमीन को आश्रम के नाम किया जाए, प्रशासन का कहना है कि यह सरकार स्तर का मामला है, उच्च स्तर से ही निर्णय हो पाएगा। ग्रामीणों ने तीसरी मांग है कि इस मामले में उकसाने का आरोप में भीनमाल विधायक के विरुद्ध मामला दर्ज है, उन्हें तत्काल गिरफ्तार किया जाए। प्रशासन का कहना है कि विधायक के विरुद्ध मामला होने के कारण इसकी जांच सीआईडी सीबी कर रही है, तफ्तीश के बाद ही गिरफ्तारी हो सकेगी। स्थानीय पुलिस इस मामवे में ऐसा नहीं कर सकती।

लोगों ने की सड़क जाम

साधु के अंतिम संस्कार को लेकर लोग मौके पर जमा हो गए है। सड़क जाम कर प्रदर्शन किया जा रहा है। मौके पर एडीएम राजेन्द्र अग्रवाल और एएसपी डॉ अनुकृति उज्जैनिया तैनात है। ग्रामीणों से समझाइश का दौर जारी है।

रातभर लटका रहा था शव

शुक्रवार सुबह पुलिस को सूचना मिली थी राजपुरा के बालाजी मंदिर आश्रम के साधु रविदास का शव पेड़ से लटक रहा है। इस पर पुलिस व प्रशासन मौके पर पहुंचा, लेकिन लोग इस बात को लेकर अड़ गए कि आत्म हत्या के लिए उकसाने का आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाए। शुक्रवार दिनभर साधु का शव पेड़ से लटका रहा। देर रात को भीनमाल विधायक पुराराम चौधरी, उनके चालक धनसिंह व एक अन्य बिजनाथ के विरुद्ध आईपीसी 306 के तहत मामला दर्ज होने पर पोस्टमार्टम को लेकर सहमति बनी। शनिवार सुबह पोस्टमार्टम तो हो गया, लेकिन अब अंतिम संस्कार को लेकर सहमति नहीं बन पाई है।

पुलिस का यह है कहना

जालोर के एएसपी डॉ. अनुकृति उज्जैनिया ने कहा कि शव का पोस्टमार्टम करवा दिया है। अंतिम संस्कार को लेकर वार्ता चल रही है। ग्रामीणों की मांग है गैर मुमकिन जमीन आश्रम के नाम की जाए, आरोपी गिरफ्तार हो और आश्रम के आगे शव का अंतिम संस्कार करने दिया जाए, जिसको लेकर समझाइश कर रहे है।

वहीं भीनमाल विधायक पूराराम चौधरी ने कहा कि मेरी खातेदारी जमीन है, मैं तो संतों का सम्मान करता हूं। मैंने आश्रम के लिए जमीन का हिस्सा छोड़ दिया और रास्ता भी दे दिया था। इसके बाद में साधु ने क्यों आत्महत्या की, इसकी मैं भी निष्पक्ष तरीके से जांच की मांग कर रहा हूं।

जमीन विवाद की बात रही सामने

दरअसल, जालोर के राजपुरा गांव में सुधा तलहटी के पास शुक्रवार को एक साधु रविनाथ महाराज ने फांसी लगाकर जान दे दी। बताया जा रहा है कि इस आत्महत्या प्रकरण से जुड़ा एक सुसाइड नोट भी पुलिस को मिला है, जिसमें जमीन विवाद की बात सामने आने के साथ भीनमाल से भाजपा विधायक पूराराम चौधरी का जिक्र है। बीजेपी विधायक का नाम सामने आने के बाद जहां इस मामले में राजनीतिक पारा चढ़ गया है। वहीं पुलिस के लिए ग्रामीणों से समझाइश मुश्किल हो रही है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments