बुधवार, अगस्त 10, 2022
Advertisement
होमIndia Newsराजस्थान सहित कई राज्यों में पेट्रोल पंप पर दौड़े लोग, जानिए पूरा...

राजस्थान सहित कई राज्यों में पेट्रोल पंप पर दौड़े लोग, जानिए पूरा माजरा

नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल की किल्लत की खबर आ रही है। सोमवार को पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, गुजरात, राजस्थान व मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में पेट्रोल पंपों पर लंबी कतारें लगने लगीं। दरअसल, सोमवार को अफवाह उड़ी कि देश में पेट्रोल खत्म होने वाला है, अगले चार दिन पेट्रोल नहीं मिलेगा…पेट्रोल के दाम फिर बढ़ने वाले हैं। कई राज्यों में ये अफवाहें इतनी तेजी से फैली कि लोगों में हड़कंप मच गया और पेट्रोल पंपों पर भारी भीड़ उमड़ पड़ी। हालत ये हो गई कि कुछ जगहों पर भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ गया। पेट्रोल पंपों पर अचानक भीड़ उमड़ने और लंबी-लंबी कतारों की वजह से कुछ पेट्रोल पंपों का स्टॉक वाकई खत्म हो गया और लोगों को बिना पेट्रोल के लौटना पड़ा।

क्या सच में है तेल संकट?

अब सवाल ये उठता है कि आखिर यह तेल की किल्लत की अफवाह के चलते हो रहा है या सच में संकट है? यह अभी स्पष्ट नहीं है। सरकार व तेल कंपनियों ने मौन साध रखा है। देश के कई राज्यों में ऐसी अफवाहों का खासा असर देखने को मिला। पेट्रोल पंप संचालकों ने लोगों को साफी समझाया भी कि अचानक भीड़ आ जाने की वजह से ऐसा हुआ है।

राजस्थान में 2500 पंप सूखने की कगार पर

राजस्थान की राजधानी जयपुर में सैकड़ों पंपों पर डीजल बिक्री बंद हो गई है। मंगलवार से पेट्रोल और डीजल की किल्लत शुरू हो सकती है। एचपीसीएल और बीपीसीएल कंपनी ने पेट्रोल और डीजल की आपूर्ति रोक दी है। ऐसे में प्रदेशभर के तकरीबन 2500 पेट्रोल पंप सूखने की कगार पर हैं। राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने इसे लेकर एसोसिएशन की ओर से पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी को पत्र भी लिखा है। राजस्थान पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुनीत बगई का कहना है कि प्रदेश में एचपीसीएल और बीपीसीएल कंपनी की ओर से पेट्रोल पंप डीलर्स को कंपनी से पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति नहीं की जा रही है। पेट्रोल पंप ड्राई होने से उपभोक्ताओं को परेशानियां आ रही हैं।

यह भी पढ़े :-गहलोत सरकार के मंत्री गोविंद राम मेघवाल को गैंग ने दी धमकी, मांगी 70 लाख की फिरौती

उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर दो दिन से किल्लत

उत्तर प्रदेश के कैराना में दो दिन से पंपों पर डीजल-पेट्रोल नहीं मिलने के कारण वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कैराना में यमुना पुल के पार सनौली रोड पर भी कई पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल व डीजल नहीं है। पेट्रोल पंप मालिकों के अनुसार मेरठ डिपो की कंपनी को प्रतिदिन डीजल-पेट्रोल पर प्रति लीटर 10 से 12 रुपये का घाटा उठाना पड़ रहा है। इसके चलते डिपो से डीजल पेट्रोल के टैंकर कम संख्या में भेजे जा रहे हैं।

उत्तराखंडः हरिद्वार व रूड़की में लगी कतारें

उत्तराखंड के हरिद्वार व रूड़की समेत कुछ शहरों में पंपों पर सोमवार को पेट्रोल खत्म होने की खबर फैलते ही लोगों में हड़कंप मच गया। पेट्रोल पंपों पर लोगों की लंबी लाइन लग गई। कुछ स्थानों पर तो भीड़ को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को बुलाना पड़ा। लोग वाहनों की टंकियां फुल कराने लगे। इसके कारण दोपहर बाद रुड़की और कस्बों के अधिकांश पेट्रोल पंप पर पेट्रोल ही नहीं मिल पाया। कार एवं दोपहिया वाहन चालक इधर से उधर दौड़ते हुए नजर आए। हरिद्वार पेट्रोलियम डीजल ट्रेडर्स एसोसिएशन के संरक्षक राकेश अग्रवाल ने बताया कि कुछ अफवाहों के चलते पंपों पर लोगों की लाइन लग गई। रुड़की शहर में हिंदुस्तान पेट्रोलियम, इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम के कुल मिलाकर 12 पेट्रोल पंप हैं। सोमवार को इनमें से पांच पर पेट्रोल खत्म होने के नोटिस चस्पा हो गए थे।

गुजरातः अहमदाबाद में देखने को मिली लंबी कतारें


गुजरात के अहमदाबाद में भी ईंधन की किल्लत महसूस की जा रही है। शहर में सोमवार को पंपों पर लंबी कतारें लगीं। पेट्रोल पंप डीलरों का कहना है कि हिंदुस्तान पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम लि. द्वारा बीते दो तीन दिनों से 50 फीसदी आपूर्ति कम की जा रही है। हालांकि, आईओसी के पंप पर आपूर्ति कम होने की सूचना नहीं है।

हिमाचल प्रदेशः शहर के कई पंप हुए खाली

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर, पांवटा साहिब. नाहन, खादरी, रेणुकाजी समेत कुछ शहरों व कस्बों में ईंधन का संकट पैदा हो गया है। पंप मालिकों का कहना है कि पीछे से ईंधन की आपूर्ति नहीं हो रही है। इस वजह से पंप खाली हो रहे हैं। पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति कम हो गई है।

मध्य प्रदेशः नहीं हो रही आपूर्ति, दिए निर्देश

मध्य प्रदेश के भी कई शहरों में मांग के अनुसार तेल की आपूर्ति नहीं हो रही है। मध्य प्रदेश पेट्रोल पंप एसोसिएशन ने प्रदेश के मुख्य सचिव को पत्र लिखा है। इसमें कहा गया है कि जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए जाएं कि उन्हें मांग के अनुसार पेट्रोल-डीजल की आपूर्ति की जाए। हालांकि, प्रदेश में फिलहाल अन्य राज्यों जितनी किल्लत नहीं बताई जा रही है। मध्यप्रदेश पेट्रोप पंप एसो. के अध्यक्ष अजय सिंह ने बताया कि खरीफ की फसलों की बोआई शुरू होने वाली है। गांवों में ट्रैक्टरों के इस्तेमाल से डीजल की खपत चार गुना बढ़ जाएगी। अभी से किल्लत है तो आगे क्या होगा। सरकार को जल्द कदम उठाना चाहिए।

इस कारण हो रही किल्लत

विभिन्न पेट्रोल पंप एसो. का कहना है कि विश्व बाजार में तेल के दाम बहुत बढ़ गए हैं। तेल कंपनियों को प्रति लीटर से 15 से 20 रुपये लीटर का घाटा हो रहा है, इसलिए वे सप्लाई कम कर रही हैं। तेल उद्योग से जुड़े सूत्रों का कहना है कि तेल कंपनियों को डीजल पर 23 और पेट्रोल में 16 रुपये प्रति लीटर घाटा हो रहा है, इसलिए आपूर्ति कम की जा रही है। बता दें, केंद्र सरकार ने 21 मई को पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क घटा दिया था। इससे पेट्रोल-डीजल के दाम घट गए हैं। पर ब्रेक लग गया था। कीमतें कुछ कम हो गई थी। तभी से तेल कंपनियां घाटा बता रही हैं।

यह भी पढ़े :- अब एक ही पोर्टल पर मिलेगा इन स्कीम का लाभ, पीएम मोदी ने लॉन्च किया जनसमर्थ पोर्टल

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments