बुधवार, अक्टूबर 5, 2022
Advertisement
होमWorld Hindi NewsPakistan Flood: बारिश और बाढ़ से तबाह हुआ पाकिस्तान : अब तक...

Pakistan Flood: बारिश और बाढ़ से तबाह हुआ पाकिस्तान : अब तक 937 लोगों की मौत, मकानों को बहा रहा पानी

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में मानसूनी बारिश से बाढ़ का कहर जारी है। पाकिस्तान में मानसूनी बारिश और बाढ़ से मरने वालों की संख्या अब तक 343 बच्चों समेत कुल 937 लोगों की मौत हो चुकी है। देश में तीन करोड़ लोगों के सिर से छत उजड़ चुकी है जिसके बाद राष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा कर दी गई है। वहीं पाकिस्तान के कुछ इलाकों में इसकी भयावहता गंभीर है, इससे संबधित तस्वारें और वीडियो सोशल मीडिया पर सामने आ रहे हैं। इसमें देखा जा सकता है कि बाढ़ का पानी और बारिश से वहां के जन-जीवन पर कितना असर पड़ रहा है और लोग के सामने कितनी विपरीत परिस्थितियां सामने आ रही हैं। पाकिस्तान में बाढ़ से जुड़ी हुई कई वीडियो क्लिप सामने आ रही हैं, ऐसे ही पाकिस्तान में बाढ़ का कहर तस्वीरों में साफ देखा जा सकता है। पाकिस्तान में हो रही भारी बारिश से बाढ़ के हालात बने हुए है। पाकिस्तान में नदियों का जलस्तर बढ़ गया है, जबकि पुल व राजमार्ग को भारी नुकसान पहुंचने से यातायात व्यवस्था भी प्रभावित हुई है। वहीं, रेल पटरियों के जलमग्न होने से पाकिस्तान में ट्रेन सेवा भी बाधित होने की खबर है।

बाढ़ की तबाही के वीडियो और तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। एक वीडियो, जो स्वात जिले का बताया जा रहा है, में एक मकान माचिस की डिब्बी की तरह पानी के तेज बहाव में समा गया और पूरी तरह डूब गया। पलक झपकते ही पानी पूरी मकान को अपने साथ बहा ले गया। पाकिस्तानी मीडिया के एक वीडियो में पानी के तेज बहाव को सड़कों और आवासीय इलाकों में घुसते देखा जा सकता है।

पलक झपकते ही जलमग्न हुआ मकान

वीडियो में पानी के बेहद तेज बहाव के बीच कुछ मकान नजर आ रहे हैं। इसे देखकर पता चलता है कि यह किसी नदी का दृश्य नहीं है बल्कि पानी आवासीय इलाकों में खतरनाक स्तर तक पहुंच चुका है। तेज बहाव दो से तीन मंजिल ऊंचे मकानों को ताश के पत्तों की तरह सिर्फ कुछ पलों में ही ढहा देता है और मलबा अपने साथ बहा ले जाता है।

784 फीसदी अधिक बारिश दर्ज

पाकिस्तानी अखबार ‘डॉन’ की खबर के अनुसार, एनडीएमए (राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण) के आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्तान में अगस्त के महीने में 166.8 मिमी बारिश हुई है, जो इस अवधि में औसतन होने वाली 48 मिमी बारिश से 241 प्रतिशत ज्यादा है। इस मानसून में सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र सिंध और बलूचिस्तान में क्रमश: 784 प्रतिशत और 496 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments