रविवार, नवम्बर 27, 2022
Advertisement
होमRajasthan NewsUdaipur Murder : नूपुर के हर समर्थक की हत्या करने वाले थे...

Udaipur Murder : नूपुर के हर समर्थक की हत्या करने वाले थे आतंकी: पाकिस्थान से दी ट्रेनिंग, राजस्थान के 6 जिलों में 40 लोग किए तैयार

जयपुर। राजस्थान के उदयपुर (Udaipur Murder case) में 29 जून को कन्हैयालाल की हत्या (Hindu tailor Kanhaiya Lal Murder) के बाद राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) के साथ ही खुफिया एजेंसियों (Interrogation Bureau) में खलबली मच गई थी। जिस अंदाज में कन्हैयालाल को मारा गया, वह तालिबानी तरीका था। इसके बाद सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर आरोपियों ने अपने मंसूबे साफ कर दिए। नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) की जांच में गौस और रियाज (Ghous Mohammad And Riyaz Attari) से पूछताछ नए-नए खुलासे हो रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- उदयपुर में तालिबानी हत्या: राजस्थान में इंटरनेट बैन, शहर में कर्फ्यू, तनाव में गुजरी पूरी रात

25 मई के बाद नूपुर के बयान का समर्थन करने वाले लोगों को सबक सिखाने के लिए पाकिस्तानी संगठन दावत-ए-इस्लामी से जुड़े 6 जिलों के लोगों को टारगेट दिया था। जांच में सामने आया कि ये सभी एक साल से इस संगठन से जुड़े थे। इस संगठन के जरिए आतंकियों के निशाने पर उदयपुर का कन्हैयालाल ही नहीं बल्कि वे सभी लोग थे, जिन्होंने नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट किया था। पाकिस्तानी संगठन दावत-ए-इस्लामी और आतंकवदियों ने इसके लिए राजस्थान के 40 लोगों को तैयार कर लिया था। ये नूपुर का समर्थन करने वालों का सिर कलम करने के लिए तैयार हो गए थे। यह खुलासा एनआईए और एटीएस की शुरुआती जांच में सामने आया है। दरअसल, ये पूरा मामला उदयपुर के कन्हैयालाल हत्याकांड से जुड़ा हुआ है। 29 जून को नूपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने वाले कन्हैया का आतंकी रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद ने गला काट दिया था।

यह भी पढ़ें :- उदयपुर हत्याकांड का 26/11 कनेक्शन : मर्डर के लिए खास नंबर वाली बाइक का इस्तेमाल, 5000 रुपये में लिया था बाइक नंबर

कई लोगों के मोबाइल की जांच से पता चला

यह नया खुलासा आतंकी रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद की कॉल डिटेल में मिले पाकिस्तान के करीब 10 लोगों के 20 मोबाइल नंबर की जांच से हुआ। आतंकी संगठन ने इन लोगों को वॉट्सऐप जैसे सोशल मीडिया एप के जरिए सिर कलम करने के लिए ऑडियो और वीडियो कॉल करके तैयार किया। आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए तैयार किए गए लोगों को टारगेट दिया गया कि तालिबान के तर्ज पर सिर कलम कर वीडियो वायरल करें।

यह भी पढ़ें :- Udaipur Murder Case: हत्यारों को पकड़ने में इन 2 दोस्तों की रही अहम भूमिका, दोनों ने 30 KM तक किया पीछा

एनआईए ने फिर उदयपुर में 6 लोगों से पूछताछ की

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी की टीम मंगलवार को फिर उदयपुर पहुंची। टीम ने अंजुमन तालिमुल इस्लाम के सदर मुजीब सिद्दिकी, मौलाना जुलकरनैन, सह-सचिव उमर फारुक, पूर्व सदर खलील अहमद के अलावा दो वकीलों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। एनआईए ने इससे पहले इनके मोबाइल, लैपटॉप सहित अन्य उपकरण जब्त किए थे। सदर मुजीब के घर तलाशी लेने की बात भी सामने आई है। सूत्रों के अनुसार एनआईए ने पूछताछ पूरी होने के बाद देर शाम सभी को छोड़ दिया।

यह भी पढ़ें :- Udaipur Murder Case : ‘समझौता’ हो गया कहकर नहीं दी थी पुलिस ने सुरक्षा, 15 जून को हुई सबसे बड़ी गलती

अजमेर में बिक रही आपत्तिजनक धार्मिक किताबें

एनआईए और एटीएस की जांच में सामने आया कि दावत-ए-इस्लामी ने अजमेर में आपत्तिजनक धार्मिक किताबें बेचने के लिए दुकान खोली थी। एक बुक सेलर को रोज 350 रुपए देते थे। रियाज और गौस यहां से किताबें लोगों में बांटते थे। एजेंसियां इसकी भी जांच कर रहे हैं।

गौस-रियाज सहित तीन आरोपी 16 तक रिमांड पर

एनआईए मामलों की विशेष कोर्ट ने उदयपुर आतंकी हमले में मुख्य आरोपी गौस मोहम्मद और रियाज अत्तारी सहित 7वें आरोपी फरहाद मोहम्मद शेख उर्फ बबला को 16 जुलाई तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया। सूत्रों के अनुसार, एनआईए ने फरहाद को रियाज अत्तारी का करीबी व उसकी हत्या की साजिश में शामिल माना है।

यह भी पढ़ें :- उदयपुर हत्याकांड : पुलिस ने सुनाया पूरा घटनाक्रम, हत्यारों के आकाओं ने कहा था-‘कैसे भी करके अजमेर पहुंच जाओ…’

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments