रविवार, नवम्बर 27, 2022
Advertisement
होमIndia Newsठाकरे सरकार पर संकट: ED ने राउत को पूछताछ के लिए बुलाया,...

ठाकरे सरकार पर संकट: ED ने राउत को पूछताछ के लिए बुलाया, नोटिस के बाद बगावती मंत्रियों पर उद्धव का ऐक्‍शन

मुंबई। महाराष्‍ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार पर संकट (Maharashtra Political Crisis) कम होने का नाम नहीं ले रहा है। श‍िवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के खास स‍िपहसालार संजय राउत (Shiv Sena MP Sanjay Raut) की मुश्‍क‍िल बढ़ गई है। प्रवर्तन न‍िदेशालय (ED) ने पात्रा चावल भूमि घोटाला मामले (Patra Chawl Land Scam Case) में शिवसेना सांसद संजय राउत के ख‍िलाफ समन जारी क‍िया है। ईडी ने संजय राउत को 28 जून, मंगलवार को पूछताछ के ल‍िए तलब किया है।

क्या है पात्रा चॉल जमीन घोटाला

मुंबई के गोरेगांव इलाके में पात्रा चॉल लैंड स्कैम में संजय राउत पर करीब 1034 करोड़ के घोटाले का आरोप है। इस मामले में संजय राउत के सहयोगी प्रवीन राउत की 9 करोड़ रुपये और संजय राउत की पत्नी वर्षा की 2 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त हो चुकी है। ईडी प्रवीन राउत को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। मुंबई के गोरेगांव इलाके में पात्रा चाल है। यह महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवेलपमेंट अथॉरिटी (MHADA) का प्लॉट है। प्रवीन राउत पर आरोप है कि उन्होंने पात्रा चॉल में रह रहे लोगों से फ्रॉड किया। गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन को पात्रा चॉल के 3000 फ्लैट को डेवलप करने का काम मिला था। इनमें से 672 फ्लैट यहां रहने वालों को देना था। बाकी फ्लैट्स MHADA और डेवलपर के बीच में बांटे जाने थे। 2010 में राउत के सहयोगी प्रवीन राउत ने गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी के 25 प्रतिशत शेयर एचडीआईएल (HDIL) को बेच दिए थे।

इसके बाद 2011, 2012 और 2013 में प्लॉट के कई हिस्सों को दूसरे निजी बिल्डर्स को बेच दिया गया। 2020 में पीएमसी बैंक घोटाले की जांच चल रही थी। इसी दौरान गुरु आशीष कंपनी का नाम सामने आया था। प्रवीन राउत की पत्नी माधुरी राउत के अकाउंट से 2010 में संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को 55 लाख रुपये का कर्ज दिया गया था। संजय राउत पर आरोप है कि इन्हीं पैसों से उन्होंने मुंबई के दादर इलाके में फ्लैट खरीदा था। ईडी ने मेसर्स गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड के पूर्व निदेशक प्रवीण राउत और अन्य के खिलाफ चार्जशीट भी दाखिल की है।

बागियों के खिलाफ उद्धव का एक्शन, पांच कैबिनेट मंत्रियों के प्रभार बदले

इधर, ED की नोटिस के कुछ मिनट बाद ही उद्धव ठाकरे ने बागियों के खिलाफ पहला बड़ा एक्शन लिया है। पांच कैबिनेट मंत्रियों और चार राज्य मंत्रियों के विभाग छीन लिए गए हैं। एकनाथ शिंदे का विभाग सुभाष देसाई को दिया है। अनिल परब को गुलाबराव पाटिल का विभाग दिया है। इसके अलावा चार राज्य मंत्रियों के विभाग उनसे लेकर किसी और को दे दिया गया है। उदय सावंत का मंत्रालय आदित्य ठाकरे के पास दे दिया गया है।

महाराष्ट्र में जारी है सियासी संकट

महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट अब सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया है। इस क्रम में शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई होगी। बता दें कि एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र विधानसभा के डिप्टी स्पीकर की ओर से भेजे गए अयोग्यता नोटिस के फैसले पर चुनौती दी है। इस बीच गुवाहाटी से ये भी खबर सामने आ रही है कि दोपहर 2 बजे एकनाथ शिंदे ने बागी नेताओं की बैठक बुलाई है। इस बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा हो सकती है। वहीं MNS प्रमुख राज ठाकरे ने एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम को लेकर भी फोन पर दो बार बातचीत की है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments