बुधवार, अगस्त 17, 2022
Advertisement
होमIndia NewsMaharashtra Political Crisis : महाराष्ट्र के सियासी संकट पर संजय राउत का...

Maharashtra Political Crisis : महाराष्ट्र के सियासी संकट पर संजय राउत का बड़ा बयान, शिवसेना ने मुंबई में लगाए पोस्टर

मुंबई। महाराष्ट्र में पैदा हुए राजनीतिक संकट (Maharashtra Political Crisis) पर शिवसेना (ShivSena) के वरिष्ठ नेता संजय राउत (ShivSena MLA Sanjay Raut) ने बुधवार को बड़ा बयान दिया। शिवसेना नेता संजय राउत (ShivSena MLA Sanjay Raut) एक बार फिर से मीडिया के सामने आए। मीडिया से बातचीत में राउत ने कहा कि आज सुबह उनकी बात एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) से हुई। उनसे दोबारा बातचीत होगी। राउत ने कहा कि एकनाथ शिंदे हमारे पुराने साथी हैं।

जल्द ही सभी विधायक मुंबई लौटेंगे। उनसे कोई मतभेद नहीं है। शिंदे से फिर बातचीत होगी। राउत ने कहा कि ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, सत्ता जाएगी लेकिन यह फिर लौटेगी। पार्टी की प्रतिष्ठा सबसे ऊपर है उसके बाद ही सबकुछ। उन्होने कहा कि फिलहाल अच्छे माहौल में बात हो रही है। बातें बढ़ा-चढ़ाकर की जा रही हैं। बता दें कि शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे ने पार्टी से बगावत कर दी है।

गुवाहाटी में हैं शिंदे और शिवसेना विधायक

शिंदे का दावा है कि उनके साथ शिवसेना के 40 विधायक हैं। महाराष्ट्र की राजनीति में उथल-पुथल का यह दौर मंगलवार को उस समय शुरू हुआ जब शिवसेना के विधायक शिंदे की अगुवाई में सूरत पहुंच गए। सूरत से ये सभी विधायक बुधवार सुबह गुवाहाटी पहुंचे। शिंदे और शिवसेना एवं निर्दलीय विधायक होटल में मौजूद हैं। विधायकों के बागी तेवर अपनाने के बाद उद्धव सरकार पर खतरा मंडरा रहा है। महाराष्ट्र भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल की मानें तो उद्धव सरकार तकनीकी रूप से अल्पमत में आ गई है। इस बीच, भाजपा ने बड़ा दावा किया है। भगवा पार्टी का कहना है कि सीएम उद्धव ठाकरे से कांग्रेस एवं एनसीपी के विधायक भी नाराज हैं। वोटिंग हुई तो ये विधायक उनके खिलाफ वोट करेंगे।

शिवसेना ने मुंबई में लगाए पोस्टर

वहीं मुंबई में शिवसेना नेता संजय राउत के आवास के बाहर एक पोस्टर लगाया गया है जिसमें लिखा है- ‘तेरा घमंड तो चार दिन का है पगले, हमारी बादशाही तो खानदानी है।’ वहीं महाराष्ट्र में सियासी संकट और उद्धव सरकार में मंत्री एकनाथ शिंदे की बगावत के बीच शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में भाजपा पर हमला बोला है। शिवसेना ने सामना में लिखा, महाराष्ट्र की सरकार को गिराने के लिए भाजपा वाले एक भी मौका नहीं छोड़ते हैं। ढाई वर्ष पूर्व अजीत पवार प्रकरण शुरू हुआ था। उसमें सफलता नहीं मिली। अब वही बेचैन आत्माएं एकनाथ शिंदे की गर्दन पर बैठकर ऑपरेशन कमल कर रही हैं।

कोला लौटेंगे नितिन देशमुख

एकनाथ शिंदे के साथ गए हुए विधायक नितिन देशमुख विशेष विमान से अकोला लौटेंगे। उनके दोपहर तक अकोला पहुंचने की उम्मीद है। मंगलवार को तबीयत बिगड़ने की वजह से उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती किया गया था। फिलहाल नितिन देशमुख एयरपोर्ट पर मौजूद हैं। नितिन पत्नी और कार्यकर्ता से मिलकर वापस लौटेंगे। देशमुख का दावा है कि वह एकनाथ शिंदे के साथ हैं।

सरकार गिराना भाजपा की पुरानी आदत

मुंबई पहुंचे कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा है कि कांग्रेस के विधायक बिकाऊ नहीं हैं। सरकार गिराना भाजपा की पुरानी आदत है। मध्य प्रदेश में उसने यही काम किया। सरकार गिराने का उसका रवैया गैर-संवैधानिक है। महाराष्ट्र संकट पर नजर रखने के लिए कांग्रेस ने कमलनाथ को पर्यवेक्षक बनाकर मुंबई भेजा है। कमलनाथ की आज सीएम उद्धव ठाकरे एवं राकांपा प्रमुख शरद पवार से मुलाकात होनी है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments