शुक्रवार, सितम्बर 30, 2022
Advertisement
होमIndia Newsमहाराष्ट्र में खत्म हुआ इंतजार : शिंदे सरकार का कैबिनेट विस्तार कल,...

महाराष्ट्र में खत्म हुआ इंतजार : शिंदे सरकार का कैबिनेट विस्तार कल, इन नेताओं को मिल सकता है मौका

मुंबई। महाराष्ट्र कैबिनेट के विस्तार को लेकर बड़ी खबर आ रही है। महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे-देवेंद्र फडणवीस सरकार के मंत्रिमंडल के विस्तार की तारीख तय हो चुकी है। सूत्रों के मुताबिक, शिंदे सरकार का कैबिनेट विस्तार कल यानी मंगलवार को होगा। महाराष्ट्र सरकार में 15 मंत्री हो सकते हैं। सभी कल सुबह 11 बजे राजभवन में शपथ ग्रहण करेंगे। इसके साथ ही मंत्रिमंडल में शामिल होने के लिए खास शर्त रखी गई है। बताया यह भी जा रहा है कि उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को गृह मंत्रालय का अहम जिम्मा सौंपा जा सकता है। सूत्रों के मुताबिक, सिर्फ साफ-सुथरी छवि वाले विधायकों को ही मंत्री पद दिया जाएगा। इसके बाद पूर्व मंत्री अब्दुल सत्तार के नाम पर कैंची चलती नजर आ रही है।

मंत्रीपद का फॉर्मूला हो सकता है ऐसा

डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस आज सुबह ठाणे में एकनाथ शिंदे के नंदनवन स्थित बंगले में गए हैं। बताया जाता है कि दोनों के बीच इसको लेकर करीब एक घंटे तक चर्चा हुई। समझा जाता है कि इस दौरान मंत्रिमंडल के सदस्यों के नामों को अंतिम रूप देने पर चर्चा हुई थी। पहले चरण में 15 से 18 मंत्री शपथग्रहण कर सकते हैं। इसमें भाजपा से 11 से 12 और शिंदे गुट से 5 से 7 विधायकों को मौका मिल सकता है।

बता दे कि, इससे पहले उद्धव ठाकरे के इस्तीफे के बाद एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री और देवेंद्र फडणवीस ने उपमुख्यमंत्री पद की शपथ 30 जून को ली थी। तब से सरकार दो सदस्यीय मंत्रिमंडल के रूप में काम कर रही है। रिपोर्ट्स की मानें तो शिंदे सरकार में भाजपा से सुधीर मुनगंटीवार, चंद्रिकांत पाटिल, गिरीश महाजन को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। इसमें शिंदे खेमे से गुलाब राव पाटिल, सदा सावरकर, दीपक केसरकर को भी शामिल किया जा सकता है।

इससे पहले कैबिनेट विस्तार को लेकर शिंदे-फडणवीस सरकार विपक्ष के निशाने पर रही है। अजित पवार ने हाल ही में कहा था कि महाराष्ट्र में कैबिनेट विस्तार में इसलिए देर की जा रही है, क्योंकि शिंदे-फडणवीस की जोड़ी को दिल्ली से ग्रीन सिग्नल नहीं मिला है। हम लगातार सीएम से कैबिनेट विस्तार और कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए मंत्री नियुक्त करने की मांग कर रहे हैं। राज्य में भारी बारिश और किसानों के मुद्दे भी सिर उठा रहे हैं, लेकिन जब तक दिल्ली से हरी झंडी नहीं मिल जाएगी, तब तक सरकार में कैबिनेट विस्तार नहीं होगा। उन्होंने कहा था कि कैबिनेट विस्तार राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव पूरे होने के बाद ही होगा।

साफ-सुथरी छवि के नेताओं को मौका

वहीं शिंदे और फडणवीस ने कैबिनेट विस्तार में साफ-सुथरी छवि वाले नेताओं को मौका देने पर सहमति जताई है। इसलिए इस बात की प्रबल संभावना है कि सत्तार का पता काट दिया जाएगा। बताया जाता है कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के सफल पात्रों में अब्दुल सत्तार की बेटियों हिना और उजमा का नाम शामिल था। वहीं शिंदे गुट को मंत्रिमंडल विस्तार में बहुत महत्वपूर्ण विभाग नहीं दिए जाने की खबर है। जानकारी के मुताबिक भाजपा के पास वित्त, गृह और राजस्व जैसे महत्वपूर्ण विभाग होंगे। शिंदे इनमें से राजस्व मंत्रालय को बाहर निकालने पर जोर दे रहे हैं। शिंदे ने पहले चरण में नौ पूर्व मंत्रियों को मौका देने का फैसला किया था। बगावत करने के बाद उद्धव सरकार के इन नौ मंत्रियों ने शिंदे का समर्थन किया। शिंदे चाहते थे कि इन सभी को पहले चरण में मंत्रीपद दिया जाए। लेकिन माना जा रहा है कि इनमें से दो से तीन लोगों के नाम कट सकते हैं।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments