शुक्रवार, दिसम्बर 9, 2022
Advertisement
होमIndia Newsकश्मीरी पंडितों की पलायन की तैयारी, प्रदर्शनकारियों ने दी धमकी, कहा-कल से...

कश्मीरी पंडितों की पलायन की तैयारी, प्रदर्शनकारियों ने दी धमकी, कहा-कल से…

कुलगाम। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में मंगलवार को एक हिंदू अध्यापिका रजनी बाला की हत्या को लेकर आज भी विरोध प्रदर्शन जारी है। हिंदू अध्यापिका रजनी की अंतिम यात्रा के दौरान गुस्साए प्रदर्शनकारी बुधवार को सड़कों पर उतर आए और हमें न्याय चाहिए के नारे लगाए। प्रदर्शन करने के दौरान कश्मीरी पंडितों ने धमकी दी है कि अगर प्रशासन ने उन्हें 24 घंटे के भीतर सुरक्षित स्थानों पर नहीं पहुंचाया तो वे घाटी छोड़ देंगे।

कश्मीर में फिर आतंकियों की कायराना हरकत, स्कूल में घुसकर हिंदू महिला टीचर को मारी गोली

बीजेपी नेता रविंदर रैना ने प्रदर्शनकारियों से की बात

जम्मू-कश्मीर में भाजपा नेता रविंदर रैना रजनी बाला के आवास पर पहुंचे। वहां हो रही नारेबाजी के बीच उन्होंने प्रदर्शनकारियों से बात की। भाजपा नेता ने आश्वासन दिया कि रजनी की हत्या का बदला जरूर लिया जाएगा।

घाटी में 18 दिनों से चल रहा कश्मीरी पंडितों का आंदोलन

घाटी में 18 दिनों से कश्मीरी पंडितों का आंदोलन चल रहा है। प्रधानमंत्री रोजगार पैकेज के तहत नौकरी पाने वाले पंडित काम का बहिष्कार कर प्रदर्शन कर रहे हैं। ये घाटी में सबसे लंबे समय तक चलने वाला प्रदर्शन बन चुका है। रेवेन्यू विभाग के कर्मचारी राहुल भट की हत्या के बाद ये प्रदर्शन शुरू हुआ था। काम करने वाले कश्मीरी पंडितों की मांग है कि हमें कश्मीर के बाहर पोस्टिंग दी जाए।

आर्टिकल 370 हटने के बाद 4 कश्मीरी पंडितों समेत 14 हिंदुओं की हत्या

कश्मीर में टारगेट किलिंग अक्टूबर में शुरू हुई। यहां पांच दिनों में सात नागरिक मारे गए। इनमें एक कश्मीरी पंडित, एक सिख और प्रवासी हिंदू शामिल है, जो नौकरी की तलाश में आए थे। 14 अप्रैल को आतंकियों ने सतीश कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इससे पहले शनिवार को आतंकियों ने अली जान रोड स्थित ऐवा ब्रिज पर पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। वहीं कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने के बाद 4 कश्मीरी पंडितों समेत 14 हिंदू आतंकी हमलों में मारे गए। गृह मंत्रालय ने संसद में इसकी जानकारी दी थी।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments