बुधवार, अक्टूबर 5, 2022
Advertisement
होमIndia Newsजोमैटो के विज्ञापन में ऋतिक के महाकाल थाली पर बवाल: मंदिर के...

जोमैटो के विज्ञापन में ऋतिक के महाकाल थाली पर बवाल: मंदिर के पुजारी बोले- दूसरा समुदाय होता तो…

उज्जैन। ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो के विज्ञापन को महाकाल से जोड़ने पर विवाद हो गया है। कंपनी का यह विज्ञापन एड एक्टर ऋतिक रोशन ने किया है। इसमें वे कह रहे हैं, थाली का मन किया। उज्जैन में हैं, तो महाकाल से मंगा लिया। महाकाल मंदिर के पुजारियों ने इस पर कड़ा विरोध जताया है।

मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल मंदिर के पुजारी महेश ने कहा, ऐसे एड जारी करने से पहले कंपनी को सोचना चाहिए। हिंदू समाज सहिष्णु है, वो कभी उग्र नहीं होता। अगर कोई दूसरा समाज होता तो ऐसी कंपनी में आग लगा देता। कंपनी हमारी भावनाओं के साथ ऐसा खिलवाड़ न करें। कंपनी ने ये भ्रामक प्रचार किया है। पुजारी ने कहा, महाकाल मंदिर अन्न क्षेत्र में भक्तों को भोजन थाली में दिया जाता है, लेकिन थाली का भोजन डिलीवर करने का कोई प्रावधान नहीं है। जो कंपनी नॉनवेज खाना भी डिलीवर कर रही हो, उसे तुरंत महाकाल के नाम की थाली का भ्रामक विज्ञापन बंद कर देना चाहिए। कंपनी ने हिंदुओं भावना को ठेस पहुंचाई है। हम इसका घोर विरोध करते हैं। कंपनी ने माफी नहीं मांगी तो हम कोर्ट जाएंगे।

वहीं कलेक्टर और महाकाल मंदिर समिति के अध्यक्ष ने विज्ञापन को तथ्यहीन और भ्रामक बताया। उन्होंने कहा, महाकाल मंदिर में सिर्फ अन्न क्षेत्र में प्रसाद ग्रहण किया जा सकता है। यहां से कहीं भी थाली नहीं भेजी जाती है। भ्रामक विज्ञापन को बंद कराने के लिए कार्रवाई करेंगे। महाकालेश्वर मंदिर के अन्न क्षेत्र में रोजाना हजारों श्रद्धालु भोजन प्रसादी ग्रहण करते हैं। मंदिर समिति की ओर से भोजन व्यवस्था फ्री रहती है। श्रद्धालु सुबह 11 से 2 बजे तक और शाम 5 से रात 8 बजे तक अन्न क्षेत्र में बैठकर भोजन प्रसादी ग्रहण कर सकते हैं।

12 ज्योतिर्लिंग में शामिल हैं महाकालेश्वर

बता दें कि भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग उज्जैन में है। यह एक मात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। उज्जैन में महाकाल का वास होने से पुराने साहित्य में उज्जैन को महाकालपुरम भी कहा गया है। महाकालेश्वर की सुबह से रात तक कुल सात आरतियां होती हैं। इस बीच तीन बार श्रृंगार भी किया जाता है।

5 महीने पहले भी विवादों में आ चुकी है कंपनी

5 महीने पहले कंपनी तब विवादों में आई थी, जब 10 मिनट में खाना पहुंचाने का दावा किया गया था। कंपनी के फाउंडर दीपिंदर गोयल ने एक ब्लॉग के जरिए इस बात की जानकारी दी थी। इस पर लोकसभा सदस्य कार्ति चिदंबरम ने कहा था कि यह बिल्कुल बेतुकी सर्विस है। इससे डिलीवरी करने वालों पर बेकार का दबाव बढ़ेगा। कई लोगों ने भी डिलीवरी बॉय की सेफ्टी पर सवाल उठाए थे। हालांकि, गोयल ने सोशल मीडिया पर ये भी बताया था कि उनकी 10 मिनट डिलीवरी सर्विस 30 मिनट डिलीवरी सर्विस की तरह सेफ रहेगी। सभी डिलीवरी बॉय को रोड सेफ्टी को लेकर ट्रेनिंग दी जाएगी। उन्हें लाइफ इंश्योरेंस भी दिया जाएगा।

जोमैटो एक भारतीय बहुराष्ट्रीय ऑनलाइन रेस्तरां खोजने और खाना मंगवाने वाली कंपनी है। इसकी स्थापना पंकज चड्ढा और दीपिंदर गोयल ने साल 2008 में की थी। इस कंपनी की स्थापना फूडीबे नाम से की गई थी। इसे 18 जनवरी 2010 को जोमैटो (जोमैटो मीडिया पीवीटी एलटीडी) से बदल दिया गया।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments