बुधवार, अक्टूबर 5, 2022
Advertisement
होमIndia Newsआसमान से बरसी आफत: हिमाचल में अलग-अलग घटनाओं में 9 की मौत,...

आसमान से बरसी आफत: हिमाचल में अलग-अलग घटनाओं में 9 की मौत, कांगड़ा में भारी बारिश से बह गया रेलवे पुल, दो दिन का अलर्ट

चंबा। हिमाचल प्रदेश में शुक्रवार शाम से हो रही भारी बारिश के कारण कई जिलों में तबाही मची हुई है। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले में भारी बारिश से आई बाढ़ के चलते रेलवे का चक्की पुल शनिवार को बह गया है। कांगड़ा के एडीएम रोहित राठौर ने इसकी पुष्टि की है। हालांकि पुल में दरारें आने के कारण डेढ़ हफ्ता पहले रेल सेवा बंद कर दी थी। डीहार पंचायत के डोल गदयाडा गां में बैजनाथ-सरकाघाट सड़क भी बह गई है।

अलग-अलग घटनाओं में नौ लोगों की मौत

आपको बता दें कि हिमाचल के चंबा जिले में शनिवार सुबह बारिश के कारण हुए भूस्खलन के बाद मकान ढह गया, जिसकी चपेट में आकर तीन लोगों की मौत हो गई। वहीं कांगड़ा के भनाला की गोरडा (शाहपुर) में एक मकान गिरने से 12 साल के बच्चे की जान चली गई। जबकि मंडी के सराज, गोहर और द्रंग में बादल फटने की घटनाओं पांच की मौत हो गई है। जबकि 15 से 20 लोग लापता बताए जा रहे हैं। तीनों एनएच मंडी पठानकोट, मंडी कुल्लू और मंडी जालंधर वाया धर्मपुर बंद हो गए हैं।

इसके अलावा, कांगड़ा जिले में भूस्खलन से बगली स्कूल भवन क्षतिग्रस्त हो गया है। वहीं, बनोंई के साथ लगती सड़क पर आवाजाई बिल्कुल बंद है। लंबागांव के रिट में भी लाहट-कोटलू सड़क पर पूली बह गई है। प्रदेश में भारी बारिश को देखते हुए चार जिलो में आज शिक्षण संस्थान बंद रखने का फैसला लिया गया है।

बाढ़ से सड़क किनारे खड़े कई वाहन क्षतिग्रस्त

वहीं अधिकारियों के मुताबिक, मंडी में तड़के 4.15 बजे अचानक आई बाढ़ के बाद बल्ह, सदर, थुनाग, मंडी और लामाथाच में कई घरों और दुकानों में पानी घुस गया। उन्होंने बताया कि बाढ़ से सड़क किनारे खड़े कई वाहन क्षतिग्रस्त हो गए और स्थानीय निवासी अपने घरों के अंदर फंसे रहे।

इधर, कुल्लू जिले में विद्यार्थियों की सुरक्षों को देखते हुए सभी शिक्षण और गैर शिक्षण संस्थान आज बंद कर दिए हैं। इसी तरह मंडी जिले व चंबा की तीन तहसीलों के सभी शिक्षण संस्थान 20 अगस्त को बंद रखने के निर्देश जारी किए गए हैं। उपायुक्त चंबा डीसी राणा ने लगातार जारी बारिश व अवरुद्ध सड़क मार्गों को देखते हुए चंबा जिले के डलहौजी, सिहुंता व चुवाड़ी तहसील के सभी शिक्षण संस्थानों को 20 अगस्त( शनिवार) को बंद रखा गया है। वहीं मंडी जिले में भी कॉलेज और आईटीआई को छोड़कर सभी सरकारी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र 20 अगस्त को खराब मौसम को देखते हुए बंद रखने के आदेश जारी किए गए हैं। कांगड़ा जिले में भी शिक्षण संस्थान बंद रखने का फैसला लिया गया है।

हिमाचल में 336 सड़कें बंद

राज्य आपदा संचालन केंद्र शिमला की रिपोर्ट के अनुसार शनिवार सुबह प्रदेश में 336 सड़कें यातायात के लिए ठप थीं। इसके अलावा 1525 बिजली ट्रांसफार्मर और 132 पेयजल योजनाएं बंद पड़ी हैं।

दो दिन भारी बारिश का अलर्ट

मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने आज हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा, चंबा, बिलासपुर, सिरमौर और मंडी जिलों के अलग-अलग स्थानों पर भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। स्थानीय लोगों और पर्यटकों को खराब मौसम में नदियों और नालों के पास जाने से बचने की सलाह दी गई है। 21 अगस्त के लिए भी भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी हुआ है।

माउंट आबू में भी तेज बारिश से ढह रहे मकान

राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थल माउंट आबू में तेज बारिश होने से कई स्थानों पर भवनों के गिरने, दीवारों के दरकने, घरों में पानी घुसने, प्लास्टर उखड़ कर गिरने का सिलसिला जारी है। वाहनकर नाके के समीप गैस गोदाम के सामने सड़क धंसने से प्रशासन ने बड़े वाहनों के आवागमन पर मार्ग के दुरूस्त होने तक लगाई रोक। सर्वे ऑफ इंडिया के पीछे की कालोनी में एक मकान की दीवार ढह गई। दीवार के सहारे घर का रखा सारा सामान क्षतग्रिस्त हो गया। दीवार गिरकर एक दुपहिया वाहन पर गिर गई जिससे वाहन भी क्षतग्रिस्त हो गया। गनीमत रही जिस तरफ दीवार गिरी उस तरफ रास्ता था लेकिन उस समय रास्ते पर कोई व्यक्ति नहीं जा रहा था। इसी तरह से ढुंढाई में सुभाषचंद्र के मकान के ऊपर के टीन पतरे उड़ गए। म्युनिसिपालिटी कालोनी में लक्ष्मी देवी मेघवाल का घर ढह गया। कुम्हारवाड़ा में भी सोनी आदिवाल के घर की दीवार ढह गई। तेज बारिश के चलते वाहनकर नाके के समीप पुराने चुंगी नाके के पास गैस गोदाम के सामने सडक़ धंस गई। सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन की ओर से भारी वाहनों की आवाजाही रोक दी गई है। हालांकि हल्के, टेक्सी, दुपहिया वाहन आदि का आवागमन जारी है।

उधमपुर में मकान गिरने से दो बच्चों की मौत

इधर, जम्मू-कश्मीर के उधमपुर जिले में मकान गिरने से दो बच्चों की मौत हो गई। जिला प्रशासन ने बताया कि सूचना मिलने के बाद बचाव दल मौके पर पहुंचे और ढहे हुए घर के मलबे से शवों को बरामद किया। यह मकान मिट्टी का बना हुआ था और घटना जिले के मुत्तल क्षेत्र के समोले गांव की है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments