बुधवार, अक्टूबर 5, 2022
Advertisement
होमIndia Newsफिल्म देखकर हत्या का तरीका सीखा: 16 साल के बच्चे की करतूत...

फिल्म देखकर हत्या का तरीका सीखा: 16 साल के बच्चे की करतूत पढ़कर हो जाएंगे हैरान

गाजियाबाद। देश की राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद के मसूरी में स्कूली छात्र की हत्या का मामला सामने आया है। सोमवार शाम को छात्र की हत्या उसके दोस्त ने ही की थी। हत्या की वजह भी चौंकाने वाली है। बताया जा रहा है कि 16 साल के दसवीं के छात्र ने आठवीं में पढ़ने वाले अपने दोस्त नीरज कुमार (13) की जान सिर्फ इसलिए ले ली ताकि उसे स्कूल न जाना पड़े। पुलिस के मुताबिक, सोमवार शाम को गला दबाकर हत्या करने के बाद वह खुद गार्डन एंक्लेव पुलिस चौकी पहुंचा और पुलिसवालों से कहा कि उसे जेल भेज दो, वह पढ़ना नहीं चाहता है। पहले तो उस पर यकीन नहीं हुआ लेकिन जब उसकी बताई गई जगह पर नीरज का शव मिला तो पुलिसवाले चौंक गए। मामला मसूरी थाना क्षेत्र के ननकागढ़ी गांव का है। पुलिस के मुताबिक, आरोपी 10वीं का छात्र है। 16 साल का ये लड़का दो बार फेल हो चुका है। महीने में दस से ज्यादा छुट्टी कर लेता था। आरोपी को पढ़ाई के लिए मां-बाप उस पर दबाव बनाते थे और डांटते थे। उसने बताया है कि उसने कई जगह सुना कि जेल में पढ़ाई नहीं होती है। इसी से यह सोच लिया कि अगर वह जेल चला जाए तो पढ़ाई से छुटकारा मिल जाएगा। फिर क्या था उसने स्कूल जाने से बचने के लिए अपने दोस्त का मर्डर किया, ताकि जेल चला जाए।

बीयर की बोतल से रेत दिया था दोस्त का गला

नीरज और आरोपी के घर पड़ोस में हैं। दोनों साथ खेलने जाते थे। आरोपी से पूछताछ के हवाले से एसपी देहात डॉ. ईरज रजा ने बताया, उसे स्कूल जाना अच्छा नहीं लगता था। पढ़ाई से बचने के लिए आरोपी ने जेल जाने का प्लान बनाया। इसके लिए उसने दोस्त को मार डाला। पहले उसका गला दबाया और फिर बीयर की बोतल फोड़कर उसके कांच से गला रेत दिया। आरोपी को मंगलवार को किशोर न्याय बोर्ड में पेश किया जाएगा।

आरोपी ने हत्या की बात कबूली

नीरज का शव सोमवार शाम साढ़े पांच बजे दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के नीचे मिला था। नीरज आकाशनगर फेज-2 का रहने वाला था। उसके गले पर खून दिख रहा था। पुलिस ने जांच शुरू की तो पता चला कि नीरज आखिरी बार उसी इलाके के रहने वाले 16 साल के किशोर के साथ देखा गया था। पुलिस ने जब किशोर को हिरासत में लिया तो उसने हत्या की बात कबूल ली।

एक महीने पहले से बनाई हत्या की योजना

आरोपी ने पुलिस को बताया कि वह दो भाइयों में बड़ा है। उसके पिता प्रॉपर्टी डीलर हैं। पढ़ाई में वह शुरू से कमजोर है। इस वजह से 10वीं में लगातार दो बार फेल हो चुका है। तीसरी बार वह 10वीं की पढ़ाई कर रहा है। मां-बाप पढ़ाई के लिए उस पर खूब दबाव बनाते हैं, लेकिन पढ़ाई में मन नहीं लगने की वजह से वह मां-बाप से दूर रहना चाहता था, ताकि उस पर इस तरह का कोई दबाव न बने। उसने करीब एक महीने पहले एक योजना बनाई।

हत्या से पहले मोबाइल पर देखे वीडियो

जेल में क्या-क्या होता है? हत्या से पहले मोबाइल पर वीडियो देखे पुलिस ने बताया कि उसकी प्लानिंग थी कि अगर जेल चला जाए तो वहां पढ़ाई का दबाव नहीं बनेगा। मां-बाप की डांट सुनने को नहीं मिलेगी और दोनों वक्त का खाना भी मिलता रहेगा। जेल में क्या-क्या होता है, कैसा रहन-सहन होता है, इसके लिए छात्र ने मोबाइल पर कई वीडियो भी देखे। एक गैंगस्टर का वीडियो भी देखने की बात सामने आई।

तीन दिन से हत्या का कर रहा था प्रयास

आरोपी 3 दिन से नीरज को मारने की फिराक में था। इसलिए वो उसको रोजाना उसी पॉइंट पर लेकर जा रहा था, जहां हत्या की। पहले 2 दिन वो हत्या नहीं कर पाया था। सोमवार को दोनों छात्र स्कूल से घर आए। कुछ देर में आरोपी नीरज के घर पहुंचा और घूमने के बहाने उसको साथ ले गया। दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे के नीचे सुनसान जगह है। एक्सप्रेस-वे की ऊंचाई अधिक होने से नीचे की तरफ किसी की निगाह नहीं जाती। गांव के लोग भी वहां नहीं जाते। आरोपी किशोर ने ऐसी सुनसान जगह ले जाकर छात्र नीरज का पहले गला दबाया। वो बेहोश हो गया। पास में ही बियर की एक खाली बोतल पड़ी थी। आरोपी ने बोतल तोड़ी और फिर उसके कांच से नीरज की गर्दन पर वार किया। इससे नीरज की गर्दन से काफी खून बहने लगा। आरोपी चाहता था कि नीरज के मरने की पुष्टि हो जाए। काफी देर बाद तक जब नीरज के शरीर में कोई हलचल नहीं हुई तो वह गांव में वापस आ गया।

आरोपी को अपने किए पर कोई पछतावा नहीं

गाजियाबाद पुलिस ने जब आरोपी किशोर को पकड़ा तो उसे अपने किए पर कोई पछतावा नहीं था। SP देहात ईरज राजा ने जब हत्या के कारण पूछे तो वह सुनकर दंग रह गए। आरोपी ने साफ कहा कि वो पढ़ाई और मां-बाप की डांट से बचना चाहता था, इसलिए उसने हत्या करके जेल जाना सही समझा।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments