गुरूवार, दिसम्बर 1, 2022
Advertisement
होमIndia Newsतीनों सेना प्रमुख कल करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, सेना की भर्ती को लेकर...

तीनों सेना प्रमुख कल करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस, सेना की भर्ती को लेकर नए नियमों का हो सकता है ऐलान

नई दिल्ली। भारतीय सेना के तीनों प्रमुख बुधवार को एक प्रेस काॅन्फ्रेंस करेंगे। संभवतः सेना में भर्ती को लेकर नए नियमों का ऐलान हो सकता है। बताया जा रहा है कि तीनों सेना प्रमुख बुधवार को साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे। ऐसी संभावना जताई जा रही है कि तीनों सेना प्रमुख चीफ टूर ऑफ ड्यूटी को लेकर कई अहम घोषणा करेंगे। इसके तहत 40 से 50 हजार जवानों की भर्ती होगी। इनकी करीब साढ़े तीन से चार साल की नौकरी होगी। चार साल की नौकरी के बाद 75 फीसदी लोग निकल जाएंगे। 25 फीसदी लोग ही आगे फौज में नौकरी कर सकेंगे। बताया जा रहा है कि संभवतः इस तरीके की घोषणा पहली बार होने जा रही है।

यह भी पढ़े :-सत्येंद्र जैन की मुश्किलें और बढ़ी, करीबी के घर से करोड़ों रुपये, सोने के बिस्कुट और सिक्के बरामद

तीनों सेना प्रमुख बुधवार को सेना में नए सुधार को लेकर एक रूपरेखा पेश कर सकते हैं। सेना में एज प्रोफाइल भी घटने का अनुमान लगाया जा रहा है। वेतन भी कम हो सकता है। इनको पेंशन नही मिलेगी। बता दें कि हर साल 60,000 लोग रिटायर होते हैं। बता दें कि करीब दो ढाई साल से फौज में जवानों की भर्ती कोरोना की वजह से नहीं हो रही है। वहीं केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) पद पर नियुक्ति के नियमों में बड़ा बदलाव किया है।

रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को सीडीएस पद के लिए पात्र अधिकारियों के दायरे को विस्तृत करते हुए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं, इसके तहत अब नौसेना और वायुसेना में सेवारत लेफ्टिनेंट जनरल या उनके समकक्ष भी सीडीएस बन सकते हैं। यह दिशानिर्देश तीनों सेनाओं के दूसरे सर्वश्रेष्ठ सक्रिय रैंक के अधिकारियों के लिए अपने सेना प्रमुख-वायुसेना प्रमुख और नौसेना प्रमुख जैसे वरिष्ठ को ’सुपरसीड’ कर सीडीएस बनने का मार्ग प्रशस्त करते हैं।

अगले सप्ताह में मिल सकती है अनुमति

इस योजना को आने वाले सप्ताह में केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा अनुमति दिए जाने की संभावना है। रक्षा बलों ने इसके रोलआउट की तैयारी भी शुरू कर दी है। सूत्रों के मुताबिक, इसकी योजना और तैयारी सैन्य मामलों के विभाग द्वारा वर्तमान में अतिरिक्त सचिव लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी के नेतृत्व में की गई है।

यह भी पढ़े :- Rajasthan High Court : राजस्थान हाईकोर्ट के इतिहास में पहली बार पति-पत्नी होंगे न्यायाधीश

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments